Uttarakhand Goverment Portal, India (External Website that opens in a new window) http://india.gov.in, the National Portal of India (External Website that opens in a new window)

Hit Counter 0000421417 Since: 06-11-2013

प्रथम सत्र 2010

प्रिंट

उत्तराखण्ड विधान सभा के 8 मार्च, 2010 से 26 मार्च, 2010 तक चले अधिवेशन के दौरान निष्पादित हुए कार्य का सारांश

उत्तराखण्ड की द्वितीय विधान सभा का वर्ष, 2010 का प्रथम सत्र 8 मार्च, 2010 को महामहिम राज्यपाल के अभिभाषण से प्रारम्भ हुआ तथा 26 मार्च, 2010 को अनिश्चित काल के लिए स्थगित हो गया। सत्र में सदन द्वारा राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा व पारण तथा वित्तीय वर्ष 2010-11 के आय-व्ययक पर चर्चा एवं पारण हुआ। सदन में कुछ महत्वपूर्ण विधेयकों पर विचार एवं पारण आदि मुख्य कार्य निष्पादित किये गये। सत्र में कुल मिलाकर 11 उपवेशन हुए।
सत्र के दौरान मा0 सदस्यों की औसत उपस्थिति 94.62ः रही। उपवेशनों के दौरान महत्वपूर्ण कार्य के निष्पादन के पश्चात 26 मार्च, 2010 को सदन अनिश्चितकाल के लिए स्थगित हो गया।
सत्र के दौरान सदन द्वारा स्व0 श्री प्रताप सिंह पुष्पवाण, पूर्व सदस्य, उत्तर प्रदेश विधान सभा को श्रृद्धांजली अर्पित की गयी। मा0 अध्यक्ष, मा0 संसदीय कार्य मंत्री, कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी एवं उत्तराखण्ड क्रान्ति दल के संसदीय दलों के नेताओं तथा अन्य सदस्यों ने दिवंगत आत्माओं के प्रति शोक संवेदनाएं प्रकट की।
माननीय मुख्यमंत्री ने 17 मार्च, 2010 को वित्तीय वर्ष 2010-11 का आय-व्ययक प्रस्तुत किया जिस पर दिनांक 18,19,22 व 23 मार्च, 2010 को सामान्य चर्चा हुई जिसमें 37 माननीय सदस्योें ने भाग लिया। मा0 मुख्यमंत्री ने 23 मार्च, 2010 को चर्चा पर उत्तर दिया। सदन द्वारा विभिन्न विभागों की अनुदान मांगों पर 23,25 व 26 मार्च, 2010 को विचार एवं पारण किया गया। 26 मार्च, 2010 को विनियोग विधेयक पुरःस्थापित हुआ और उस पर विचार एव पारण हुआ।
सत्र में प्रश्न काल में कुल मिलाकर 28 सदस्यों ने प्रश्नों की सूचनाएं पटल पर रखीं। कुल 495 प्रश्नों की सूचनाएं प्राप्त हुईं जिसमें तारांकित एवं अतारांकित प्रश्न भी सम्मलित थे। इनमे से 106 को तारांकित, 262 को अतारांकित तथा 16 को अल्पसूचित प्रश्न के रूप में स्वीकार किया गया।
सत्र के दौरान कुल 242 प्रश्न पूछे गये तथा उत्तर दिये गये जिनमें से 54 तारांकित, 176 अतारांकित तथा 12 अल्पसूचित प्रश्न थे। सत्र के दौरान नियम 40 (2) के अन्तर्गत स्वीकार 6 स्थगित तारंकित प्रश्न, नियम 31 (4) के अन्तर्गत स्वीकार 1 तारंकित प्रश्न 2 स्थगित अतारांकित स्वीकार प्रश्नों के उत्तर भी दिए गये।     
उत्तराखण्ड विधान सभा की प्रक्रिया तथा कार्य संचालन नियमावली के नियम 300 के अर्न्तगत ध्यानाकर्षण की 60 सूचनाएं प्राप्त हुई, जिसमें से 31 स्वीकृत हुई, कार्य स्थगन की 85 सूचनाएं प्राप्त हुई जिसमें से 15 को ग्राह्यता पर सुना गया। सुनने के पश्चात सभी अस्वीकृत हुई तथा 4 को ध्यानाकर्षण के लिए स्वीकार किया गया। नियम 53 के अर्न्तगत 53 सूचनाएं प्राप्त हुई जिसमंे से 09 स्वीकृत हुई। नियम 310 के अन्तर्गत नियमों को निलम्बित कर चर्चा कराए जाने सम्बन्धी 41 सूचनाएं प्राप्त हुई जिनमे से 7 को नियम 58 के अन्तर्गत ग्राहयता पर सुना गया सुनने के पश्चात सभी अस्वीकार हुई।
9 मार्च, 2010 को प्रमुख सचिव, विधान सभा ने घोषणा की कि निम्नलिखित विधेयक, जिन्हें विधान सभा द्वारा पारित किया गया था पर महामहिम राज्यपाल की अनुमति प्राप्त हो गयी तथा वे उत्तराखण्ड के वर्ष 2010 के अधिनियम बन गए:-

क्र0सं0    नाम    दिनांक    वर्ष 2010 का
अधिनियम सं0


        सदन द्वारा पारण    महामहिम राज्य पाल की अनुमति प्राप्ति    
1    उत्तराखण्ड विनियोग (2009-2010 का अनुपूरक) विधेयक, 2009    23.12.2009    05.01.2010    1
2    देव संस्कृति विश्वविद्यालय अधिनियम, 2002 (संशोधन) विधेयक, 2009    23.12.2009    05.01.2010    2
3    हिमगिरी नभ विश्वविद्यालय (यूनिवर्सिटी इन द स्काई)  
अधिनियम, 2003 (संशोधन) विधेयक, 2009    23.12.2009    05.01.2010    3
4    पतंजलि विश्वविद्यालय अधिनियम, 2006 (संशोधन) विधेयक, 2009    23.12.2009    05.01.2010    4
5    इक्फाई विश्वविद्यालय अधिनियम, 2003 (संशोधन) विधेयक, 2009    23.12.2009    05.01.2010    5
6    पेट्रोलियम एवं  ऊर्जा अध्ययन विश्वविद्यालय अधिनियम, 2003 (संशोधन) विधेयक, 2009    23.12.2009    05.01.2010    6
7    उत्तराखण्ड (उत्तर प्रदेश नगर नियोजन एवं विकास अधिनियम, 1973) (संशोधन) विधेयक, 2009    24.12.2009    05.01.2010    7
8    उत्तराखण्ड (उत्तर प्रदेश आवास एवं विकास परिषद अधिनियम, 1965) (संशोधन) विधेयक, 2009    24.12.2009    05.01.2010    8
9    उत्तराखण्ड (उत्तर प्रदेश विशिष्ट क्षेत्र विकास प्राधिकरण अधिनियम, 1986) (संशोधन) विधेयक, 2009    24.12.2009    05.01.2010    9
10    उत्तराखण्ड तकनीकी विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक, 2009    23.12.2009    05.01.2010    10
11    उत्तराखण्ड (उत्तरांचल मूल्य वर्धित कर अधिनियम, 2005) (तृतीय संशोधन) विधेयक, 2009    22.12.2009    07.01.2010    11
12    उत्तराखण्ड मंत्री (वेतन, भत्ता और प्रकीर्ण उपबन्ध) विधेयक, 2009    22.12.2009    07.01.2010    12
13    उत्तराखण्ड ऊर्जा विकास निधि (संशोधन) विधेयक, 2009    22.12.2009    07.01.2010    13
14    उत्तराखण्ड राजभाषा विधेयक, 2009    22.12.2009    07.01.2010    14
15    उत्तराखण्ड ख्उत्तर प्रदेश राज्य विधान मण्डल (अनर्हता निवारण) अधिनियम, 1971, (संशोधन) विधेयक, 2009    22.12.2009    07.01.2010    15
16    उत्तराखण्ड राज्य विधान सभा (सदस्यों की उपलब्धियां और पेंशन) (संशोधन) विधेयक, 2009    22.12.2009    07.01.2010    16
17    उत्तराखण्ड ख्उत्तर प्रदेश राज्य विधान मण्डल (अधिकारियों के वेतन तथा भत्ते), (संशोधन) विधेयक, 2009    22.12.2009    07.01.2010    17

सत्रावधि में निम्न पत्र सदन के पटल पर रखे गये -
1ण्    अध्यक्ष, उत्तराखण्ड विधान सभा द्वारा जारी किये गये प्रक्रिया संबंधी निदेश संख्या-14 (3) की अपेक्षानुसार
उत्तराखण्ड विधान सभा के वर्ष 2009 के तृतीय सत्र में उत्तराखण्ड विधान सभा की प्रक्रिया एवं कार्य-संचालन नियमावली, 2005 के नियम-300 के अन्तर्गत प्राप्त सूचनाओं पर कृत कार्यवाही का विवरण।
2ण्    उत्तराखण्ड आबकारी नीति वर्ष 2010-2011
3ण्    उत्तराखण्ड विधान सभा की आश्वासन समिति (2009-10) का पन्द्रहवां प्रतिवेदन
4ण्    ‘‘भारत का संविधान‘‘ के अनुच्छेद 151 के खण्ड (2) के अधीन भारत के नियंत्रक-महालेखापरीक्षक द्वारा प्रस्तुत उत्तराखण्ड सरकार के वर्ष 2008-09 के वित एवं विनियोग लेखे (स्पष्टीकरण ज्ञापन सहित)
    सत्र के दौरान सभा द्वारा निम्नलिखित विधेयकों का पुरःस्थापन, विचार एवं पारण किया गया -
1.    उत्तराखण्ड अनानुदानित निजी व्यावसायिक शिक्षण संस्थाओं (प्रवेश तथा शुल्क निर्धारण विनियम) (संशोधन) विधेयक, 2010
2.    उत्तराखण्ड माल के स्थानीय क्षेत्र में प्रवेश पर कर (संशोधन) विधेयक, 2010
3.    उत्तराखण्ड विनियोग विधेयक, 2010
4.    उत्तराखण्ड (संयुक्त प्रान्त आबकारी अधिनियम, 1910) (संशोधन) विधेयक, 2010
5.    उत्तराखण्ड सहकारी समिति (संशोधन) विधेयक, 2010
6. उत्तराखण्ड विवाहों का अनिवार्य रजिस्ट्रीकरण विधेयक, 2010
स्त्रावधि में सदन द्वारा निम्नलिखित संकल्प पारित हुए
1    ‘‘यह सदन भारत सरकार से अनुरोध करता है कि उत्तराखण्ड राज्य को प्रदत्त औद्योगिक पैकेज जिसकी अवधि माह मार्च, 2010 में समाप्त हो रही है, को वर्ष, 2020 तक बढा दिया जाय‘‘
2    ‘‘यह सदन भारत सरकार से अनुरोध करता है कि अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति तथा अन्य पिछड़ा वर्ग के व्यक्तियों को जाति प्रमाण-पत्र निर्गत करने में आ रही कठिनाई के निराकरण हेतु यथोचित दिशा निर्देश जारी करने का कष्ट करें।‘‘
26 मार्च, 2010 के उपवेशन की समाप्ति पर मा0 अध्यक्ष द्वारा सदन अनिश्चितकाल के लिए स्थगित किया गया। 27 मार्च, 2010 को महामहिम राज्यपाल द्वारा सत्रावसान की घोषणा कर दी गई।